क्रिकेट के नियमों में बदलाव करने की जरूरत क्यों पड़ी? ये है बड़ी वजह

आप में से ज्यादातर लोग ऐसे होंगे जो क्रिकेट मैंच देखते ही होंगे. ऐसे में अक्सर खेल के दौरान कई बार देखने को मिल जाता है कि गेंद को चमकाने के लिए क्रिकेटर गेंद पर थूक लगाते है. लेकिन अब आप ऐसा नहीं देख पाएंगे. जी हां मैच के दौरान गेंद पर थूक के इस्तेमाल पर बैन लगा दिया गया है. MCC यानी मेरिलबोन क्रिकेट क्लब नें इस खेल के कई नियमों में बदलाव किया है. मेरिलबोन क्रिकेट क्लब, एक ऐसा क्लब है जिसके बनाए नियमों से ही क्रिकेट खेला जाता है. यानी ये क्लब चाहे तो क्रिकेट से जुड़े किसी भी नियम को बदल सकता है या हटा सकता है और कोई नया नियम बना भी सकता है. लेकिन सवाल ये है क्रिकेट से जुड़े किन नियमों में बदलाव किया गया और क्यों MCC  को इस खेल से जुड़े नियमों को बदलना पड़ा.इस लेख में आसान भाषा में इससे जुड़ी सारी बातें जानेंगे…

Mankading: 'Mankading' kicked up a storm. Did you know 'Panenka', 'Produnova' also named after athletes? - The Economic Times

-मांकडिंग के नियम में बदलाव

मांकडिंग (Mankading) के कारण क्रिकेट में कई बार विवाद देखने को मिला है. मांकडिंग यानी जब गेंदबाज के गेंद फेंकने से पहले नॉन स्ट्राइक पर खड़ा बल्लेबाज क्रीज से बाहर निकल जाता है तो बॉलर अपना हाथ रोककर उस छोर की गिल्लियां बिखेरकर उसे आउट दे देता है तो इसे ही मांकडिंग कहा जाता है. पहले इसे खेल भावना के खिलाफ माना जाता था. इस मामले को लेकर क्रिकेट जगत दो भाग में बंट जाता था, लेकिन अब इसपर फुल स्टॉप लगा दिया गया है. पुराने नियम के अनुसार मांकडिंग लॉ-41 (अनफेयर प्ले) के अधीन आता था. अब इसे लॉ-38 (रन-आउट) में मूव कर दिया गया है. इसे अनफेयर प्ले नहीं माना जाएगा, जिसकी वजह से इसपर होने वाला विवाद भी लगभग खत्म हो जाएगा.

IPL 2019: 5 Funniest moments of the season

-कैच आउट के नियम में बदलाव

मैच में कई बार बल्लेबाज के कैच आउट होने के बाद असमंजस की स्थिति पैदा हो जाती है कि अगली गेंद पर नया बल्लेबाज स्ट्राइक लेगा या नॉन स्ट्राकर पर खड़ा बल्लेबाज. इसे लेकर कई बार खेल भी रोकना पड़ता है. लेकिन अब अगर ओवर की शुरुआत के 5 गेंद पर बल्लेबाज कैच आउट होता है तो नया बल्लेबाज स्ट्राइक लेगा. अब अगर बल्लेबाज क्रॉस भी करता है तो भी नया बल्लेबाज ही स्ट्राइक लेगा. वहीं, अगर ओवर की अंतिम गेंद पर विकेट गिरता है तो दूसरे छोर का बल्लेबाज अगली ओवर की पहली गेंद पर स्ट्राइक लेगा. बीते साल इंग्लैंड के नए टूर्नामेंट द हंड्रेड में ये नियम देखने को मिला था.

Mankading In Cricket: All You Need To Know About The Controversial Dismissal Method

डेड बॉल

कभी-कभी डेड बॉल मैच में अहम भूमिका निभाती है. कभी पिच पर जानवर, व्यक्ति या किसी वस्तु के आने से खेल को रोका जाता है, ऐसे में अब अंपायर को यह अधिकार होगा कि वह उसे डेड बॉल करार दे सकता है.

गेंद पर थूक लगाने पर बैन

अब क्रिकेट में गेंद को चमकाने के लिए थूक के इस्तेमाल पर बैन लगा दिया गया है. पहले इसे केवल कोरोना के कारण लागू किया गया था, लेकिन अब MCC  इसे कानून बना रही है. नया कानून बॉल पर सलाइवा लगाने की अनुमति नहीं देगा, क्योंकि कई बार इसको लेकर हो-हल्ला भी हुआ है कि गेंद पर अपनी लार लगाने के लिए खिलाड़ी शुगर वाले प्रोडेक्ट का इस्तेमाल भी करते हैं. ऐसे में गेंद पर लार लगाना अब मना हो गया है इसकी जगह पर खिलाड़ी पसीने का इस्तेमाल कर सकते है. MCC की तरफ से कहा गया है कि रिसर्च में पता चला है कि पसीना और थूक एक जैसा ही काम करता है.

From R Ashwin to Kapil Dev, Top 5 Mankading moments in cricket history - CURRENTNEWSTV.IN

वैकल्पिक खिलाड़ी

अगर खेल के दौरान किसी खिलाड़ी को रिप्लेस किया जाता है तो उसकी जगह पर विकल्प को उसी खिलाड़ी की तरह माना जायेगा जिसकी जगह उसने ली है. यानी मैच के दौरान अगर रिप्लेस किए हुए खिलाड़ी पर लगी कोई सजा या किसी तरह का प्रतिबंध वगैरह है, तो वो नए खिलाड़ी पर भी लागू किया जायेगा.

फील्डिंग टीम की गलत मूवमेंट

अगर फील्डिंग कर रहा कोई प्लेयर गलत तरीके से मूवमेंट करता है, तो उसे अभी तक डेड बॉल करार दिया जाता था और बल्लेबाज के शॉट को कैंसिल कर दिया जाता है. लेकिन अब ऐसा होने पर बल्लेबाजी करने वाली टीम को पांच पेनल्टी रन मिलेंगे. यानी अगर ये मूवमेंट प्लेयर द्वारा जानबूझकर की जाती है, तो बल्लेबाज को सिधे पांच रन पेनल्टी के रूप में दिए जाएंगे.

IPL 2019: Match 4 (RR vs KXIP): Turning Point Of The Match

गेंद को खेलने का बल्लेबाज का अधिकार

अगर गेंद पिच से बाहर गिरती है तो नये नियम के तहत बल्लेबाज इस बॉल को खेल सकता है. हा ये होना जरूरी है कि बल्लेबाज के बल्ले का कुछ हिस्सा या उसके पिच के भीतर रहने पर ही उसे गेंद को खेलने का अधिकार होगा. उसके बाहर जाने पर अंपायर इसे डेड बॉल करार दे सकते है. इसके साथ ही अब पिच छोड़ने के लिये मजबूर करने वाली कोई भी गेंद नोबॉल होगी.

वाइड के नियम

अब बल्लेबाज की पॉजिशन के हिसाब से ही वाइड नापी जाएगी, ना कि स्टम्प की दूरी के हिसाब से.

इन नियमों को एक अक्टूबर के बाद ही लागू किया जाएगा. यानी ये नियम ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी-20 वर्ल्ड कप से पहले बदल जायेंगे. ऐसे में इन नियमों के लागू होने के बाद मैंच और भी रोमांचक होगा.