हिंसा के दौरान पुलिस पर बुर्का पहनकर पत्थर मारने वाली महिलाओं की हुई पहचान

दिल्ली हिंसा के बाद अब पुलिस जांच में खुलासे सामने आ रहे हैं. आईबी के कर्मचारी अंकित शर्मा, पुलिस के जवान रतनलाल की हत्या को लेकर पुलिस अब जांच में जुटी हुई है. अकित शर्मा की हत्या के आरोप में सलमान नाम के शख्स को गिरफ्तार किया गया है लेकिन अब पुलिस उन महिलाओं की भी पहचान कर ली है जिन्होंने बुरका पहना पुलिस की टीम पर हमला बोला था, चांद बाग (Chand Bagh) इलाके में हेड कॉन्स्टेबल रत्न लाल मर्डर केस, DCP अमित शर्मा और एसीपी अनुज कुमार पर हमले में शामिल 6 महिलाओं की क्राइम ब्रांच SIT ने पहचान की है.

अब इन महिलाओं को जल्द ही हिरासत में लेकर की पूछताछ की जाएगी, ऐसा भी बताया जा रहा है कि पूछताछ के बाद इनकी गिरफ्तारी भी संभव है. जानकारी के मुताबिक़ दिल्ली के दंगों की जाँच कर रही एसआईटी को महिलाओं के खिलाफ अहम सबूत हाथ लगे हैं जिसको लेकर महिलाओं के ठिकानों पर छापे मारे जा रहे हैं.बता दें कि करीब 70 से 80 महिलाए चांद बाग इलाके में घटना के वक्त मौजूद दिखी हैं. जिसमे ज्यादातर महिलाओं ने पुलिस टीम पर हमला किया था.

दरअसल महिलाओं ने बुरका पहना हुआ था इसलिए उनकी पहचान कर पाना पुलिस के लिए एक चुनौती थी लेकिन वीडियो फुटेज और सर्विलांस के जरिए 6 महिलाओं की पहचान कर ली गई है. जिनको लेकर पुलिस जल्द खुलासा कर सकती है..उत्तर पूर्वी दिल्ली में 24 फरवरी को हुई हिंसा में डीसीपी शाहदरा अमित शर्मा को पत्थरबाजी के दौरान चोट आई थी. वहीँ दिल्ली पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि जांच के दौरान पता चला कि चांद बाग में पुलिस टीम पर हमला पूरी तरह सुनियोजित था। हमले से पूर्व एक आरोपी सलीम मलिक उर्फ मुन्ना (38) प्रदर्शन स्थल के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों को तोड़ते हुए दिख रहा था। बाद में पूरी वारदात को अंजाम दिया गया।

इस खबर के बाद ये समझना आसान है कि किस तरह प्लानिग के तहत सबकुछ किया गया. बुरका पहनी महिलाओं ने पुलिस पर हमला किया, पत्थर फेंका. मारपीट की… जिससे उनकी पहचान ना हो क्योंकि उन्होंने तो बुरका पहन रखा है लेकिन बा जो खबर सामने आ रही है कि पुलिस ने बुरका पहन पुलिस पर हमला करने वाली छह महिलाओं की पहचान कर ली है.. अब उनसे पूछताछ के बाद उनकी गिरफ्तारी भी की जा सकती है.