वर्ल्ड हेल्थ डे २०२२ – हमारा ग्रह, हमारी हेल्थ : साफ़ हवा, पानी और खाना

अगर हम आप से कहे की क्या आप सब लोग एक ऐसी पृथ्वी की कल्पना कर सकते है जहां साफ़ हवा, साफ़ पानी और शुद्ध खाना सब लोगो के लिए उपलब्ध हो? क्या आप सब लोग ऐसे शहरो की परिकल्पना कर सकते है जो की रहने योग्य हो? क्या आप सब लोग ऐसी दुनिया की परिकल्पना कर सकते है जहां पर अर्थव्यवस्था स्वास्थय और कल्याण पर केंद्रित हो? और लोग अपने और अपने अपने प्रियजनों के स्वास्थय के प्रति जागरूक हो? यदि आप सब सोच रहे है की ऐसी दुनिया सिर्फ सपनो में होती है और हकीकत में ऐसा कुछ नहीं होता तो हम आप लोगो को बता दे की साल २०२२ में वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाईजेशन ने ऐसा खूबसूरत सपना देखा है। इस इस ब्लॉग में हम जानेगे की हर साल वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन किस दिन वर्ल्ड हेल्थ डे बनाता है और क्यों?

 क्या और कब है विश्व स्वास्थय दिवस

वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन हर साल मानव और अपनी प्यारी पृथ्वी को बचने के लिए लोगो को जागरूक करता है।  लोगो को महामारी व अन्य बीमारिया जैसे की हार्ट रिलेटेड प्रोब्लेम्स, कैंसर, अस्थमा  और इस सब से बचने के लिए कौन कौन से सेफ्टी measure लेने है इन सब से अवगत करता है। साधारण शब्दों में कहें तो इस दिवस को मनाने का मुख्य उद्देश्य दुनिया भर के लोगों को हेल्थ के प्रति जागरूक करना और लोगों की हेल्थ के स्तर को ऊंचा उठाना है. हर व्‍यक्ति स्‍वस्‍थ रहे और उसे अच्छे से अचे इलाज की सुविधा बिना जयादा पैसा खर्च करे बिना  मिल

सके. साथ ही लोग अपने स्वास्थय के प्रति जागरूक  हों, ताकि दुनिया भर में फैली गंभीर बीमारियों की रोकथाम की जा सके.

 विश्व स्वास्थय दिवस हर साल ७ अप्रैल को मनाया जाता है। ७ अप्रैल जो की वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन का स्थापना दिवस भी है वर्ल्ड हेल्थ डे मनाया जाता है। साल 1950 में पहली बार वर्ल्ड हेल्थ डे बनाया गया था।  वर्ल्ड हेल्थ डे WHO के स्थापित 11 campaigns  में से एक है।

 विश्व स्वास्थय दिवस थीम 2022

हर साल WHO वर्ल्ड हेल्थ डे मानाने के लिए एक थीम का चयन करता है जो की WHO के कंसर्न एरियाज को priorities  करती है। साल २०२२ में बढ़ती हुई महामारी , प्रदूषित ग्रह और असंतुलित खान पान के चलते इस साल की थीम है “Our Planet, Our health ” यानि की हमारा ग्रह हमारा स्वास्थय है ।   हमारे ग्रह और हमारे स्वास्थय को प्रदूषण, ग्लोबल वार्मिंग और अन्य बीमारियों से बचने के लिए किस को क्या क्या करना है उस के लिए WHO ने  एक लिस्ट तैयार की है जो की आप WHO की वेबसाइट पर जा क देख सकते है ।

फैक्ट्स

हर साल प्रदूषण, बाढ़, ख़राब स्वास्थय फैसिलिटीज के कारण 13 मिलियन से अधिक लोगो की मौतें होती है या फिर काफी अधिक संख्या में लोग गंभीर बिमारी से पीड़ित होते है जिने टाला जा सकता है।

मनुष्यो के स्वास्थय  लिए सब से बड़ा खतरा जल वायु परिवर्तन है। जल वायु संकट भी स्वास्थय संकट है।

प्रदूषण मुक्त ग्रह : भारत का एक खूसबसुरत प्रयास

अपनी पृथ्वी को बचाने और एक बेहतर ग्रह बनाने के लिए काफी लोग भी प्रयास कर रहे है।  ऐसा ही एक प्रयास भारत के piplantri में भी लोगो ने किया है। जहां अब भी भारत ने कुछ लोग लड़की पैदा होने पर कोई खुशीनहीं मानते वही piplantri के लोगो ने एक अनोखी पहल शुरू की है। यहाँ पर लोग लड़की के पैदा होने पर 111 पेड़ लगते है और उस पेड़ की देख भाल अपने बच्चे की तरह करते है । यह एक अनोखी पहल है।  इस पहल से जहां पिपलांत्री के लोगो ने पर्यावरण और बेटी को बचाने की अनोखी पहल शुरू करि है वही उनकी इस पहले से काफी सारे पक्षी वापस अपने घर लौटने लगे है।