World Kidney Day 2021: भारत की पूरी आबादी के 17 प्रतिशत मरीजों में किडनी की समस्या

हर साल विश्व किडनी दिवस मार्च महीने के दूसरे गुरुवार के दिन मनाया जाता है. ऐसे में आज 11 मार्च को पूरे विश्व में वर्ल्ड किडनी डे मनाया जा रहा है. एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत की पूरी आबादी के 17 प्रतिशत मरीजों में किडनी की समस्या है जिन्हें डायलिसिस कराना पड़ता है. डॉक्टरों का कहना है कि देश में हर साल नए डेढ़ लाख किडनी फेल होने के मामले सामने आ रहे हैं.

विश्व किडनी दिवस का उद्देश्य दुनिया में लगातार बढ़ रही किडनी की बीमारियों के मामलों को रोकना है. दुनियाभर में इसकी शुरुआत साल 2006 में हुई थी. इसे इंटरनेशनल सोसाइटी ऑफ नेफ्रोलॉजी और इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ किडनी फाउंडेशन ने मिलकर 66 देशों में शुरू किया था. आईए जानते है वर्ल्ड किडनी डे के मौके पर क्यों होती हैं किडनी की बीमारी, इसके लक्षण क्या है और इससे बचाव के उपाय क्या है…

World kidney day 2020 know Kidney Stones Symptoms Causes and treatment: वर्ल्ड किडनी डे 2020: इन संकेतों को न करें इग्नोर, हो सकती है किडनी में पथरी - India TV Hindi News

किडनी की बीमारी क्यों होती हैं ?

अधिक शराब पीना

पेशाब रोकना

धूम्रपान करना और अधिक सॉफ्ट-ड्रिक्स पीना

मांस का अधिक सेवन करना

कम मात्रा में पानी पीना

अधिक मात्रा में नमक खाना

दर्दनाशक दवाओं का अधिक सेवन करना

बीमारी के शुरुआती लक्षण क्या है?

पैरों और आंखों के नीचे सूजन

खून की कमी से शरीर पीला पड़ना

चलने पर जल्दी थकान और सांस फूलना

रात में बार-बार पेशाब के लिए उठना

भूख न लगना और हाजमा ठीक न रहना

आयुर्वेद में Kidney की बीमारी का इलाज, ये दवा है बेहद असरदार... - Kidney treatment in ayurveda medicine for kidney diseases all facts about neeri kft - Latest News & Updates in

बचने के उपाय क्या है?

रोजाना 8 से 10 गिलास पानी पिएं

खाने में नमक, सोडियम और प्रोटीन की मात्रा का ध्यान रखे

35 साल के बाद साल में कम-से-कम एक बार ब्लड प्रेशर और शुगर की जांच अवश्य करवाएं

ब्लड प्रेशर या डायबिटीज के लक्षण मिलने पर हर 6 महीने में पेशाब और खून की जांच कराएं

फल और हरी सब्जियां ज्यादा से ज्यादा सेवन करें

मैग्नीशियम किडनी को सुचारू रूपसे काम करने में मदद कर सकता है. ऐसे में जरूरी है मैग्नीशियम युक्त फूड्स भरपूर मात्रा में सेवन करने की.

न्यूट्रिशन से भरपूर खाना,  रोजाना एक्सरसाइज और वजन कंट्रोल रखने से भी किडनी की बीमारी से बचा जा सकता है.

डॉक्टरों के मुताबिक, किडनी रोग की खराब बात ये है कि गुर्दा करीब 70 प्रतिशत खराब होने के बाद भी लक्षण सामने नहीं आते. बीमारी का पता चलता है तब भी लोग लापरवाही करते हैं, क्योंकि उन्हें परेशानी महसूस ही नहीं होती है. ऐसे में जरूरत है हमें इसके प्रति सर्तक और सावधान रहने की…और सही समय पर इसका इलाज कराने की..

इस लेख में दिए गए सुझाव और टिप्स सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. इसके बारे में ज़्यादा जानकारी के लिए संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क ज़रूर करें