World Mosquito Day 2021: जानें क्यों मच्छर दुनिया का सबसे खतरनाक जीव है? जानिए इस दिवस का महत्व और इतिहास

आज हम आपको बताने जा रहे है दुनिया का सबसे रोचक तथ्य..जिसे जानकर आप हौरान हो जाएंगे, आपको जानकर हैरानी होगी कि जिन मच्छरों को हम एक थप्पड़ में मार कर चित कर देते हैं, ये दुनिया के सबसे ज्यादा खतरनाक और जानलेवा जीव हैं. साल भर में ये मच्छर 10 लाख लोगों को मौत की नींद सुला देते हैं. जबकि दुनिया का सबसे खतरनाक जीव माने जाने वाले शेर एक साल में सिर्फ 200 लोगों की जान का ज़िम्मेदार बनता है….है न दिलचस्प बात?

मलेरिया

ख्वामखां हम शेर और बाघ जैसे जानवरों को यमराज का अवतार मानते हैं, जबकि उनसे हमारी जान को इतना खतरा नहीं है, जितना की एक छोटे से जीव मच्छर से है..कम से कम रिपोर्ट्स तो ऐसा ही कहती हैं. दरअसल, sciencefocus के एक रिपोर्ट के मुताबिक मच्छर के काटने से हर साल दुनिया में 7 लाख 25 हजार लोगों की जान चली जाती है. वहीं endmalaria.org  के मुताबिक, मच्छर के काटने से हर साल 10 लाख लोगों की मौत हो जाती है.

मच्छरों के कारण इंसानों में जो बीमारियां सबसे खतरनाक साबित होती हैं, उनमें-मलेरिया, डेंगू, वेस्ट नाइल वायरस, चिकनगुनिया, ज़ीका और यलो फीवर शामिल हैं. एक बार मच्छर से होने वाली ये बीमारियां अगर इंसान के शरीर में लग जाएं, तो जानलेवा साबित होती हैं. आप सोच रहे होंगे कि आज इस वीडियो में हम मच्छरों के बारें में क्यों बात कर रहे है तो बता दें कि हर साल 20 अगस्त को विश्व मच्छर दिवस मनाया जाता है. अब ये भी सवाल है कि आखिर मच्छरों के लिए दिन घोषित करने की ज़रूरत क्यों पड़ी, तो चलिए ये भी जानते है.

इंसानों के लिए दुनिया का सबसे खतरनाक जीव कौन? शेर, शार्क या कोई और.... सही  जवाब जानकर आप चौंक जाएंगे | Deadliest animals in the world lion hippo snake  elephant human crocodile

इस दिन का उद्देश्य मच्छर से होनेवाली बीमारियों के प्रति जागरुकता फैलाना है. साथ ही ये दिन ब्रिटिश डॉक्टर, सर रोनाल्ड रॉस को याद करने के लिए भी मनाया जाता है, जिन्होंने 20 अगस्त साल 1897 में ये पता लगाया था कि मादा मच्छर मनुष्यों के बीच मलेरिया फैलाती है. इस साल विश्व मच्छर दिवस की थीम ‘रीचिंग द जीरो मलेरिया टारगेट’ रखा गया है यानी ‘मलेरिया के जीरो लक्ष्य तक पहुंचना’…

डब्ल्यूएचओ के मुताबिक, मलेरिया विश्व स्तर पर अनुमानित 219 मिलियन मामलों का कारण बनता है और इसके परिणामस्वरूप हर साल 4 लाख से अधिक मौतें होती हैं. दूसरी ओर, डेंगू से लगभग 96 मिलियन लोग संक्रमित होते है और हर साल डेंगू से अनुमानित 40 हजार मौते हो जाती है. सोचिए, जिस मच्छर को हम हल्के में लेते हैं, वो वाकई कितना खतरनाक है…तो मच्छरों से सतर्क रहे और इनको हल्के में बिल्कूल भी ना लें.