World No Tobacco Day 2021 :शराब या सिगरेट कौन सा होता है ज्यादा नुकसानदेह? रिसर्च में खुलासा

वर्ल्‍ड टोबैको डे के मौके पर आज उन लोगों को कई तरह की सलाह दी जा रही है जो बहुत ज्यादा सिगरेट पीते हैं. लेकिन हाल ही में एक रिपोर्ट आई है जिसमें उन लोगों को भी अलर्ट किया गया है जो खुब शराब पीते है. इस रिपोर्ट में बताया गया है कि अगर आप एक सप्ताह में 750 मिलीलीटर शराब पीते हैं तो कैंसर की बीमारी उतनी ही खतरनाक होगी जितना कि एक सप्ताह में महिलाओं के 10 और पुरुषों के 5 सिगरेट पीने से होता है.

drinking alcohol: 'शराब और सिगरेट का अधिक सेवन आपको समय से पहले बना सकता है  बूढ़ा' - excessive drinking and smoking can make you age before time |  Navbharat Times

इस अध्ययन को ब्रिटेन की बायोमेड सेंट्रल (बीएमसी) एजेंसी की तरफ से किया गया है. यहां आपकों ये भी बता दे कि ब्रिटेन में सरकार की गाइडलाइंस के मुताबिक, महिला और पुरुष एक हफ्ते में बस 14 यूनिट शराब ही पी सकते हैं.

विशेषज्ञों ने ये भी बताया है कि ज्‍यादातर शराब पीने वालों के लिए शराब की तुलना में सिगरेट पीना ज्‍यादा खतरनाक साबित हो सकता है और इससे उन्हें कैंसर के खतरे और ज्‍यादा हो सकते हैं. इसके जोखिमों को कम करने का एकमात्र तरीका सिगरेट को पूरी तरह से छोड़ देना है.

इस रिसर्च में ऐसा बिल्कुल नहीं कहा गया है कि शराब कम पीने वाले को कैंसर का खतरा नहीं रहता है. बीएमसी के पब्लिक हेल्थ के रिसर्चर्स के मुताबिक, शराब पीने से महिलाओं में ब्रेस्ट और पुरुषों में पेट और लिवर का कैंसर बढ़ने की संभावना ज्यादा रहती है.

Smoking and Drinking: A Dangerous Combo for the Body: शराब के साथ सिगरेट  भूल से भी न पियें, नहीं विश्वास तो पढ़े पूरा रिसर्च - India TV Hindi News

इसके अलावा इस रिपोर्ट में तंबाकू और शराब से होने वाले कैंसर मरीजों के डेटा का रिसर्च भी किया गया है. द इंस्‍टीट्यूट ऑफ कैंसर रिसर्च के वैज्ञानिक डॉ. शोमेकर ने कहा कि कैंसर के खतरों की तस्वीर बहुत जटिल और बारीक है, इसलिए ये ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि नया अध्ययन कई मान्यताओं के आधार पर है. उन्‍होंने उदाहरण देते हुए कहा कि शराब और सिगरेट पीने के प्रभावों को पूरी तरह से रोकना मुश्किल है.

रिसर्च में सिर्फ कैंसर पर बात की गई है, दूसरे बीमारियों पर नहीं. सिगरेट पीने वालों में दिल और फेफड़ों के रोग ज्‍यादा होते हैं. कैंसर के अन्य कारणों को इसमें शामिल नहीं किया है. उम्र, परिवार के जीन, खानपान और जीवन शैली भी कैंसर की वजहें हो सकती हैं.